FacebookFamilySocial Updates

RIP MoM – Last Rituals of Dr Prem Jagyasi’s Mother

Paid Last Rituals to MoM, by immersing her last remains (bones) in holy River Narmada at Omkareshwar.
माँ की अस्थियो को कल ओमकरेश्वर मे माँ नर्मदा नदी पर विसर्जन किया।
The process start with mundan (Shaving head and facial hair). It is believed that shaving off the hair helps men to let go of their ego. It gives them a sense of responsibility and reminds them to be obedient and become more selfless while performing their deeds.
प्रक्रिया मुंडन से शुरू होती है। ऐसा माना जाता है कि बाल मुंडवाने से पुरुषों को अपने अहंकार को दूर करने में मदद मिलती है। यह उन्हें ज़िम्मेदारी का एहसास दिलाता है और उन्हें आज्ञाकारी बनने के लिए आज्ञाकारी बनने और अधिक निस्वार्थ होने की याद दिलाता है।
The mantras spoken at the time of asthisanchana (bone immersion) also shed light on the belief of the Aryans, according to which the deceased reincarnates the new body in the Lokantar and sent the bones of each part of the body to her for the new creation of that body. Hence, It is necessary to immerse remains with proper prayers. The words of the high-mantra confirmed by this belief are as follows: –
अस्थिसंचयन के समय बोले जाने वाले मंत्रों से आर्यों के उस विश्वास पर भी प्रकाश पड़ता है, जिसके अनुसार मृतक लोकांतर में पुनः नवीन शरीर को धारण करता है तथा उस शरीर के नव- निर्माण के लिए उसके शरीर के प्रत्येक अंग की अस्थियों को उसके लिए भेजा जाना आवश्यक होता है। उनकी इस धारणा की पुष्टि उच्चार्यमाण मंत्र के जिन शब्दों से होती है, वे इस प्रकार हैं :-
“” (O Beloved, O Mother!) From here, come and receive a new form. Do not leave any element of your body, mother, go to any world you want to go. Savita will set you there. This is your bone, you become one with the third in opulence. Be beautiful with all the bones, be dear to the Gods in the celestial world. “” – Prayers are offered by saying such verses.
“”( हे प्रेतात्मा, हे माँ!) यहाँ से सद्गत हो और नवीन स्वरुप धारण करो। अपनी देह के किसी भी अवयव को न छोड़ो माँ, तुम जिस किसी भी लोक को जाना चाहो, जाओ। सविता तुम्हें वहाँ स्थापित करे। यह तुम्हारी एक अस्थि है, तुम ऐश्वर्य में तृतीय से युक्त होओ। सम्पूर्ण अस्थियों से युक्त होकर सुंदर बनो, तुम दिव्य लोक में देवों के प्रिय बनो।”” – इस प्रकार के श्लोक कहकर प्रार्थना की जाती है।
Prayers are made by chanting Grass, Thread, Kush, Yava, Sesame, Grains, flowers etc. on the bank of holy river. Immediately after immerssing remains in water water, the prayers are made for mother’s wish for liberation and fulfillment.
घाट पर पिंड बनाकर कुश, यव, तिल, अक्षत, पुष्प आदि के साथ मंत्रोच्चारण करके प्रार्थना की जाती है। तद उपरांत माँ की मुक्ति एवं तृप्ति की कामना के साथ उन्हें जल में विसर्जित कर दिया।
——
Prayer/प्रार्थना
माँ, आपका साकार आशीर्वाद हमारे ऊपर सदा रहा है माँ, अब निराकार रूप मैं अपना आशीर्वाद बनाए रखे। आपकी आत्मा को सद गति प्राप्त हो यही कामना है माँ। ओहम शांति।
MoM thank you for showering blessings and your love on us। Rest in Peace mother।
Show More

Dr Prem Jagyasi and Team

Dr Prem is an award winning strategic leader, renowned author, publisher and highly acclaimed global speaker. Aside from publishing a bevy of life improvement guides, Dr Prem runs a network of 50 niche websites that attracts millions of readers across the globe. Thus far, Dr Prem has traveled to more than 40 countries, addressed numerous international conferences and offered his expert training and consultancy services to more than 150 international organizations. He also owns and leads a web services and technology business, supervised and managed by his eminent team. Dr Prem further takes great delight in travel photography.

Related Articles

Back to top button